Home न्यूज़ और गॉसिप मुरादाबाद में कोरोना योद्धाओं पर हमला करने वालों पर भड़के जावेद अख्तर,...

मुरादाबाद में कोरोना योद्धाओं पर हमला करने वालों पर भड़के जावेद अख्तर, कहा- ऐसी बेवकूफी मत करो

कोरोना वायरस की वजह से एक तरफ जहां पूरा देश संकट का सामना कर रहा है वहीं कुछ ऐसी जगह भी हैं जहां लोग डॉक्टर्स और पुलिस वालों पर हमला कर रहे है। ऐसा ही अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में देखने को मिला था जहाँ स्वास्थ्य विभाग की टीम और पुलिस पर लोगों ने हमला कर दिया था। इस हमले में कई लोगों के चोट आई थी। पूरे देश में इस घटना की कड़ी निंदा हुई।

4 13

इसके साथ ही कुछ दिन पहले इस हमले के बाद इस मामले को लेकर गीतकार जावेद अख्तर और निर्माता अशोक पंडित के बीच ट्विटर पर तीखी बहस हो गई थी। अब इस मामले पर जावेद अख्तर ने एक वीडियो के जरिए पत्थरबाजों को फटकार लगाते हुए देशवासियों के लिए मैसेज दिया है।

6 6

उन्होंने मुरादाबाद में हुई पत्थरबाजी की घटना को बहुत शर्मनाक बताते हुए ट्वीट किया कि वह कल्पना भी नहीं कर सकते कि अपनी जान को खतरे में डालकर दूसरों की मदद करने वालों पर हमला करने के लिए कितना अज्ञानी होना पड़ता है। मुरादाबाद में जो हुआ है, वह बहुत शर्म की बात है। उन्होंने वहां के शिक्षित लोगों से अनुरोध किया कि वे अज्ञानियों को समझाएं।

इसके अलावा शबाना आजमी ने जावेद अख्तर का एक वीडियो ट्विटर पर शेयर किया है। इसमें वो कहते नजर आ रहे हैं दोस्तो, ‘इस वक्त देश बहुत बड़े संकट से गुजर रहा है और इस संकट का नाम कोरोना वायरस है जिससे निपटने के लिए जरूरी है कि हम सभी एक हों। हम अगर एक दूसरे पर ही शक करेंगे तो जब एकता ही नहीं होगी तो हम लड़ेंगे कैसे।

इस एकता की बहुत जरूरत है। उन डॉक्टरों को सलाम कीजिए जो अपनी जान हथेली पर रखकर आपका इलाज करने, आपकी जांच करने आ रहे हैं। उस जांच से ही तो मालूम होगा कि आपको बीमारी है कि नहीं। अरे सलाम कीजिए उन डॉक्टर्स पर जो अपनी जिंदगी को हथेली पर रखकर हमारा इलाज कर रहे हैं, आपकी जांच करने आ रहे हैं। टेस्ट से ही तो पता चलेगा कि कि आपको बीमारी है कि नहीं।

जावेद अख्तर आगे कहते हैं, ‘अगर बीमारी होगी तो आपका इलाज किया जाएगा। बीमारी पता नहीं चली तो इलाज नहीं हो पाएगा। बड़ी नासमझी की बात है कि कई जगह डॉक्टरों पर पत्थर फेंके जाते हैं, यह तो बहुत मूर्खतापूर्ण काम है और यह नहीं होना चाहिए। जावेद ने कहा, ‘कहीं मैं सुन रहा हूं कि किसी वर्ग की दुकान बंद कर दी है। उनका ठेला पलट दिया है और उन्हें मारकर भगा दिया है। ऐसे एकता नहीं होती है। हमें एक दूसरे का साथ देना होगा।’

a 6

जावेद कहते हैं कि वह खासतौर पर अपने देश के मुसलमान भाइयों से कहना चाहते है कि रमजान आ रहा है, लोग जरूर इबादत करे लेकिन वे यह याद रखे कि इससे किसी दूसरे को कोई दिक्कत ना हो। जो इबादत वे मस्जिद में जाकर करते हैं, वह अपने घर में कर सकते हैं। यह सारी जमीन उसी की तो बनाई हुई है जिसे आप मानते हैं। और वह बाकी देशवासियों से कहते है कि वे सभी एक दूसरे पर विश्वास रखे और एक दूसरे का साथ दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular